Best 100 Gulzar poetry in Hindi, गुलज़ार की बेहतरीन शायरी

 Gulzar Poetry in Hindi – नमस्कार दोस्तों! स्वागत है आपका हमारी वेब्सायट ThePoetry के एक और नए Post में। इस Post में हमने gulzar Poetry in Hindi का एक पूरा कलेक्शन अप्डेट किया है। अगर आप भी Gulzar Poetry Search कर रहे है तो यह पर आपको हर प्रकार के gulzar Poetry मिलेंगे 

Gulzar Poetry, gulzar Shayari, gulzar Quertes

जैसे- Gulzar Poetry, Best of Gulzar Poetry, Gulzar Shayari, मिलेंगे। हमें उम्मीद है आपको यह पोस्ट अच्छा लगेगा।🙏🙏🙏


❣️ज़िन्दगी छोटी नहीं होती हैं

लोग जीना ही देरी से शुरू करते हैं ❣️

 


भरोसा भी क्या चीज़ है ना

एक करता रहता है, तो दूसरा तोड़ता रहता है|


समस्या का अंतिम हल

माफी ही है, कर दो या मांग लो !


मुक्कम्बल इश्क़ से ज्यादा तो चर्चे

अधूरी मोहब्बत के होते हैं!


जी करता है, तुम्हारी हर ख्वाहिस, हर इच्छा

को अपना मकसद बना लूं!


मोहब्बत थी इसलिए जाने दिया

जिद होती तो आज, मेरी बाहों में होती!


एक तेरा ही तो ख्याल है मेरे पास

वरना कौन अकेले में मुस्कुराता है!


मरते तो कई होंगे तुम पर

मगर मैं जीता हुँ, तुम पर!


दिल बड़ा रखोगे तो

पहचान अपने आप बढ़ जाएगी!


काश वो रास्ते मे मिल जाये

मुझे मुँह फेर कर गुजरना है


किसी ने मुझसे पूछा की दर्द की कीमत क्या है,

मुझे नही पता मुझे लोग मुफ्त में दे जाते हैं!


कुछ दिन और सही जनाब

मगर जब मिलेंगे, तो मुलाकात यादगार होगी


खोकर पता चलती है,कीमत किसी की

पास अगर हो तो, अहसास कहां होती है!


सब तरह की दीवनगी से वाकिफ हुए हम,

पर माँ जैसा चाहने वाला जमाने भर में ना था!


काश तू सिर्फ मेरी ही होती,

या फिर मिली ही नही होती!


खुद को गिरने ना दें क्योंकि गिरी हुई

इमारत की ईंट तक ले जाते हैं लोग!


सिर्फ हम् ही हैं तेरे दिल में

बस यही गलतफैहमी हमें बर्बाद कर गई,


मांगना ही छोड़ दिया हमने वक्त किसी से,

क्या पता उनके पास इंकार का भी वक्त ना हो!


कुछ तो बात है मोह्ब्बत में वरना

एक लॉश के लिए कोई ताज महल नही बनाता!


किसी को पसंद आना बोहोत असान है,

मगर ज़िन्दगी भर पसंद बने रहना मुश्किल है!


जिन्हें नींद नही आती उन्हें ही मालूम है,

सुबह होने में कितने जमाने लगते हैं!


मुसाफिर हुँ साहब यादों

से भी चला जाऊंगा!


पवित्रता सिर्फ नफरत में है,

प्यार में लोग कपड़े उतार देते हैं!


डर लगता है अब इश्क़ जताते हुए,

अक्सर रूठ जाता हूँ तुम्हे मनाते हुए,


हालात सिखा देते हैं बातें सुनना और सहना

वरना हर शख्स अपने आप में बादशाह होता है!


तुम गुजर जाओ करीब से

वो भी मुलाकात से कम नही!


जिसे लोग आज बेवकुफ बनाना कहते हैं,

कभी लोग इसे इश्क़ कहते थे!


खुशियां तक़दीर में होनी चाहिए

तस्वीर में तो हर कोई खूश नज़र आता है!


कहने को तो बोहोत कुछ बाकी है,

मगर तेरे लिए मेरी खामोशी ही काफी है!


गजब का अहसास होता है एक तरफ़ा इश्क़ में

ना इज़हार की खुशि, ना इनकार का गम!


ठो कर खाया हुआ दिल है साहब,

भीड़ से ज्यादा तन्हाई अछि लगती है!


हम् वक्त और हालात के साथ

शौक बदलते हैं,दोस्त नही!


पता नही होश में हुँ, या बेहोश हूँ,

पर बोहोत कुछ सोचकर खामोस हुँ!


मुँह खोलकर तो मैं हँस देता हूँ, हर किसी के साथ

लेकिन दिल खोलकर हँसे मुझे जमाना हो गया!


बदला नहीं हूँ मैं, मेरी भी कुछ कहानी है,

बुरा बन गया हूँ, अपनों की मेहरबानी है!


वो आये थे हमसे मिलने साहब,

मेरा जुकाम देखकर इरादा बदल दिया!


तब बोहोते देर हो चुकी होगी,

जब तुझे हम समझ मे आएंगे!


हकीकत कुछ और होती है,जनाब

हर गुमसुम इंसान पागल नही होता!


चलो मर जाते हैं तुम पर,

बताओ दफ़नाओगे अपने सीने में!


बाहर बोहोत खतरा है, जान

तुम मेरे दिल मे रह लो!


दिया जलाना है साहब किसी का दिल नही!


टूटता हुआ तारा सबकी दुआ पूरी करता है,

क्योंकि उसे टुटने का दर्द मालूम होता है!


जरूरी नहीं मोहब्बत में रोज बातें हों,

खोमोशि से उसके मेंसेज का इंतज़ार

करना भी तो इश्क़ है!


हर शख्स को चाहिए हज़ार चाहने वाले,

अब एक मोह्ब्बत में गुजरा नही होता!


सारी उम्र गुज़ार दी तन्हाई में हमने,

जरा सांसे क्या टूटी मेला सा लग गया!


मुझमें हज़ार खामियां हैं, माफ कीजिये,

पर आप आईने जो भी तो साफ कीजिये!


नफरत ना कीजिये हमसे हमें बुरा लगेगा,

बस प्यार से कह देना अब तेरी जरूरत नही है!


कैसे करूँ भरोसा गैरों के प्यार पर,

यहां अपने हीं मजा लेते हैं, अपनो की हार पर!


बोहोत गुरूर था लोगों को अपनी दौलत और सोहरत पर,

एक वायरस क्या आया सहर के सहर वीरान हो गए!


एक गरीब आदमी बोला मेरी तो मजबूरी है

खाना लेने की,

पर आपकी क्या मजबुरी है,खाना देते हुए

फ़ोटो लेने की|


सहारे की आदत नही है मेरी,

"मैं हूँ ना"बस ये आवाज़ चाहिए थी बूरे वक़्त में.


कहा था ना कि 

एक दिन मुझे फर्क 

पड़ना ही बंद हो जाएगा 

वो दिन आ गया है , 

आजाद हो तुम 

अपना ख्याल रखना,


धूप में बाप और 

चूल्हे पर माँ जलती है 

तब कहीं जाकर 

औलाद पलती है.


मोहब्बत ज़िन्दगी 

बदल देती है 

मिल जाए तब भी 

ना मिले तब भी.


कमाल की मोहब्बत थी 

उसको हमसे 

अचानक ही शुरू हुई 

और बिन बताए ही ख़त्म.


ज़रा सा भी नहीं पिघलता 

दिल तुम्हारा 

इतना किमती पत्थर कहां 

से खरीदा ?


वो मन बना चुके थे 

दूर जाने का 

हमें लगा हमें 

मनाना नहीं आता.


चाहत , 

फिकर , 

सादगी , 

वबफा , 

मेरी इन्ही बुरी आदतों ने 

मेरा तमाशा बना दिया.


रिश्ते कमज़ोर नहीं 

होने चाहिए , 

अगर एक खामोश है 

तो दूसरे को 

आवाज़ देनी चाहिए...


तुझे कैसे ले जाऊँ तेरे पिता की 

मर्ज़ी के बगैर , 

कल को में भी एक बेटी का बाप बरनूँगा.


सफ़र छोटा ही सही, 

पर यादगार होना चाहिए, 

रंग साँवला ही सही, पर वफादार होना चाहिए... ! !


काश ! 

कोई मेरा भी होता जो कहता मत रोया कर 

यार तेरे रोने से मुझे भी तकलीफ होती है.


" याद रखना "' 

जो आसानी से मिले वो धोखा है जो मुश्किल से मिले वो इज़्ज़त है जो दिल से मिले वो प्यार है और जो नसीब से मिले वो दोस्त हैं.


इंसान को कोई 

चीज नहीं हरा सकती , 

जब तक वो खुद 

न हार मानले..


ना दोस्ती बड़ी 

ना प्यार बड़ा 

जो उसे निभा दे 

वो इंसान बड़ा.


ज़िन्दगी में 2 लोगों को कभी 

नहीं भुलना चाहिए 

1. एक वो जिसने तकलीफ दी

2. दूसरा वो जिसने तकलीफ में साथ दिया.



हम तो गर्मी आने पर चाय भी नहीं छोड़ते

यकीन मानिए

आपको छोड़ने का तो सवाल ही नहीं... ! !


मेरी ज़िन्दगी मेरी 

जान हो तुम , 

मेरे सुकून का दूसरा 

नाम हो तुम..


वादा था , मुकर गया 

नशा था , उतर गया 

दिल था , भर गया 

इंसान था , बदल गया.


नींद भी क्या गजब 

की चीज है 

आजाये तो सब कुछ 

भुला देती है 

और ना आये तो सब कुछ 

याद दिला देती है.


किसी की आदत 

हो जाना , 

मोहब्बत से ज्यादा 

खतरनाक है... ! !


दोस्ती तो छोटा सा लफ्ज़ है 

तुझमे तो जान है मेरी.♥️


दिल मैं इस खदर 

मोहब्बत है उनके लीए , 

सोए तो ख्वाब उनके , 

जागे तो ख़्याल उनके.


इंसान चाहे कितना ही 

ख़ुश क्‍यों ना हो 

जब वो अकेला होता है 

तो वो सिर्फ उस इंसान को 

याद करता है 

जिसि वो दिल से प्यार 

करता है.


ए दिल 

बस तु इतना समझले 

जिसे तु खोना नही चाहता 

वो तेरा होना नहीं चाहता.


गलती पर साथ छोड़ने वाले 

तो बहोत मिल जाते है , लेकिन गलती पर समझ कर साथ निभाने वाले बहोत कम...


भरोसा उस पर करें 

जो आप की 3 बातें समझ सके 

हँसी के पीछे का दर्द , गुस्से के पीछे का प्यार , चुप रहने की वजह..


टूट कर चाहना 

और फ़िर टूट जाना 

बात छोटी है मगर 

जान निकल जाती हैं


सच्ची मोहब्बत 

जिनसे हो जाती है ना , 

तो उनकी इज्जत 

मोहब्बत से भी बढ़कर 

की जाती है..


सादगी का ज्ञान सभी 

देते हैं 

पर मरते सभी चेहरे पर 

ही हैं...!!


दवा गर काम ना आये ट 

तो नज़र भी उतारती है 

ये माँ है साहब , 

हार कहां मानती है..!!


शिकायत और दुआ में जब एक ही शख्स हो, तो समझ लो इश्क करने की अदा आ गई तुम्हें.


ना जाने कौनसी दौलत है 

कुछ लोगों के शब्दों में... 

बात करते है तो, 

मन ही खरीद लेते है...!!


रोने से इंसान कमज़ोर 

होता है, ये गलत है, 

बलकी रो - रोकर 

टूटा हुआ इंसान ही 

सबसे मजबूत बनता है


बात करने के लीये 

टाइम वक़्त और मूड की 

जरूरत नहीं होती, 

बस दिल में अहमियत 

होनी चाहिए.


लफ़्ज अलग है 

जज़्बात वही है 

माँ कहो या दुनिया 

बात वही है..


चेहरा तो मुझसे भी 

अच्छा ढूंढ लोगे, 

बात जब दिल की आयेगी 

तो हार जाओगे.


कया खूब था वो 

बचपन ! 

जब दो उँगलियाँ जोड़ने से 

दोस्ती हो जाती थी.


चाहे कितनी भी 

नफ़रत कर लो उससे 

उसका नाम सुनने पर 

मुस्कुरा तो तुम 

आज भी देते हो..


ख़ुदा करें वह लम्हा कभी 

ख़तम ना हो, 

जिन लम्हों में मेरे माँ - बाप 

मुस्कुरा रहे हो.


बड़े वफादार है 

आजकल के रिश्ते 

याद हम ना करे तो 

कोशिश वो भी नहीं करते.


अपने नसीब को बुरा 

कहने से पहले एक बार 

अपनी माँ को ज़रूर 

देख लेना...!!


"कदर" और "वक़्त" भी कमाल के होते है. 

जिसकी कदर करो वो वक़्त नही देते, जिनको वक़्त दो वो कदर नहीं करते.


पापा के हाथों में अखबार 

पकड़ते हीं, 

माँ का चाय बनाने लग 

जाना भी इश्क है.


कौन कहता है खुदा नजर 

नहीं आता, 

एक वही तो नजर आता है

जब कुछ नजर नहीं आता.


दोस्ती :- उनसे करो जो 

निभाना जानते हो 

नफ़रत :- उनसे करो जो 

भुलाना जानते हो 

गुस्सा :- उनसे करो जो मनाना जानते हो


ये जो माँ की मोहब्बत 

होती है ना..!! 

ये सब मोहब्बत की माँ 

होती हैं... ! !


कौन कहता है मिट जाती है 

दूरी से मोहब्बत, 

मिलने वाले ख्यालों में भी मिला करते है..!!



रब

से कभी उम्मीद मत छोड़ना 

दुनिया 

से कभी उम्मीद मत रखना.


आपकी कदर तब होती है, 

जब आपकी जरूरत होती है.

 

Tag:Gulzar ke nagme, Best Of Gulzar Shayari Collection, Famous Shayari By Gulzar, Gulzar Shayari, Gulzar Shayari In Hindi Collection, Latest Gulzar Shayari